Funny Sindhi Joke in Hindi

एक नौजवान दिल्ली स्टेशन पर एक सिन्धी को मिला।
कहने लगा –
“मेरी जेब से पर्स कही गिर गया है,
बस मुझे दिल्ली से पटना पहुंचने तक के पैसे दे दीजिये ।
टिकट 105 रूपयेका है । और आगे पटना रेलवे स्टेशन से मैं पैदल अपने घर चला जाऊंगा ।
बस 105 रूपये चाहिये।
वैसे मै बहुत संपन्न परिवार से हूँ । मुझे मांगते हुए झिझक महसूस हो रही है ।
सिन्धी ने कहा –
“इसमे शर्माने वाली कोई बात नहीं है,
कभी मेरे साथ भी ऐसा हो सकता है l

ये लो मेरा फोन,
अपने घर वालो से बात करो,
कहो कि
मेरे इस नबंर पर 200 रूपयेका रिचार्ज करवा दें और तुम मुझसे 200 रूपये नकद ले लो ।
तुम्हारी परेशानी खत्म ।”

वो व्यक्ति बिना कुछ बोले आगे बढ गया।

दाल पकवान और
सिन्धी का दिमाग,
पूरे संसार में कोई तोड़ नहीं!!

Chalaak Ladki Saadi ki dukaan par

लड़की – भैया कोई स्टाइलिश साड़ी दिखाओ

दुकानदार – ये लो मैडम जालीदार साड़ी है

लड़की – वाओ कितने की है ?

दुकानदार – 2 हजार की

लड़की – भैया सही पैसे लगाओ
मैं तो हर बार आपकी ही दुकान से ले जाती हूँ

दुकानदार –
कुछ तो रहम करो मैडम
ये दुकान कल ही नयी खुली है ।

India Pakistan Cricket Jokes after Champions Trophy Final

BCCI ने ऐलान किया है कि हार्दिक पांड्या प्लेन से आएगा बाकी के खिलाड़ी ट्रेन से आए

और

रविन्द्र जडेजा पैदल आएगा !!

————–

पाकिस्तान से मैच हारने के बाद
धोनी की माँ कहती हैं कि
बेटा बाजार जाकर सामान ले आओ

धोनी- नहीं जाऊँगा माँ
जनता मारेगी
माँ- मेरी धोती पहन कर जा कोई नहीँ पहचानेगा

धोनी -ठीक है जाता हूं

बाजार में एक महिला
धोनी से बोली

औऱ क्या हाल है माही
धोनी चकरा गया।
धोनी-श्री मती आप कौन

महिला – अबे मै कोहली हूँ

अनुष्का की साड़ी है!

——————-

आज भारत ने साबित कर दिया के बाप का दिल कितना बड़ा होता है, बेटे की जीत मैं ही अपनी जीत देखता है।

Happy Father’s day !

——————

मैच चल रहा था तब यह मैसेज व्हाट्सप्प पे फ़ैल रहा था:

चेक करो
कही अनुष्का आतंकियों के कब्जे में तो नही

——————

ढोल वाले का फ़ोन आया है
भाई बुकिंग #Cancel तो नही करनी।

Hindi Joke – Pandit Ji Narak mein

एक पापी आदमी मरने के बाद नर्क में गया.

कुछ सालों बाद उसके गांव के ही पंडितजी उसे नर्क में मिल गये.

उस पापी आदमी को बड़ा आश्चर्य हुवा की,
‘सारा गांव जिन पंडितजी की शराफत, इंसानियत की कसमें खाता था, उन्हे तो स्वर्ग में जाना चाहिये था.’…

उसने हैरान होकर पंडितजी से पूछ ही लिया:
पंडितजी! आप यहाँ कैसे ???

पंडितजी: पंडताईन के कारण!

पापी: मतलब … ?

पंडितजी: मैंने मेरी पूरी जिंदगी में कभी झूठ नही बोला, बस बीबी से बोलना पड़ता था …

पापी: मैं कुछ समझा नही….

पंडितजी: वो रोज सुबह तैयार होकर मुझसे पूछती-
मैं कैसी लग रही हूँ जी ??? ”

.
.
.

हंसिये मत…
हम सब भी नर्क मे ही जानें वाले है …..!

Dubey ji aur Kismat – New Joke in Hindi

दुबे जी के पड़ोस में सत्यनारायण कथा की आरती हो रही थी,

आरती की थाली दुबे जी के सामने आने पर,
दुबे जी नेअपनी जेब में से छाँट कर कटा फटा दस रूपये का नोट कोई देखे नहीं, ऐसे डाला ।

वहाँ अत्यधिक ठसाठस भीड़ थी ।

दुबे जी के कंधे पर ठीक पीछे वाली आंटी ने थपकी मार कर दुबे जी की ओर 2000 रूपये का नोट बढ़ाया ।

दुबे जी ने उनसे नोट ले कर आरती की थाली में डाल दिया ।

दुबे जी को अपने 10 रूपये डालने पर थोड़ी लज्जा भी आई ।

बाहर निकलते समय दुबे जी ने उन आंटी को श्रद्धा पूर्वक नमस्कार किया,

तब आंटी ने दुबे जी को बताया कि 10 का नोट निकालते समय आपका 2000 का नोट जेब से गिरा था, वो ही आपको बापस किया था ।

बोलो सत्यनारायण भगवान की जय!