Ladke ne kiya tameez se propose

एक छोरा एक छोरी को प्रपोज करते हुए:

I LOVE YOU
.

.
छोरी : तमीज से बात करो
.
.
छोरा : ओम मंगलम भगवान विष्णु मंगलमगरुड ध्वज्:
मंगलम पुण्डरिकाक्षाय

With Due respect Beg To say That
“I Love You” देवी जी, offer ग्रहण करें ,
स्वाहा !

और तब तक गाल पर चटाक।

छोरा गाल सहलाते हुए ये क्या है??

छोरी :पूर्णाहुति के बाद नारियल फूटा है |

Bhartiya Patniya aur unka mood

भारतीय पत्नियों की तबियत ज्यादातर इस बात पर निर्भर करती है……..

कि आने वाला मेहमान
मायके से आ रहा है
कि ससुराल से!! 😀

Funny Student Teacher Hindi Jokes

LKG के बच्चे को इम्तहान में 0 मिला।
पिता गुस्से से- यह क्या है?
बच्चा- मैम के पास स्टार खत्म हो गये तो उन्होंने मून दे दिया

———

टीचर – हरीश बताओ, अकबर ने कब तक शासन किया था?
हरीश – पेज नम्बर -14 से लेकर पेज 20 तक।

———

मास्टर: नदी में निम्बू के पेड़ से निम्बू कैसे तोड़ोगे?
छोटू: चिड़िया बनकर!
मास्टर: तुझे चिड़िया कौन बनाएगा?
छोटू: जो नदी में पेड़ लगाएगा!

———

मैडम: बच्चो बताओ सबसे ज्यादा नशा किसमे होता है?
छोटू: जी किताब में!
मैडम: वो कैसे?
छोटू: जी खोलते ही नींद आने लग जाती है!

———

स्कूल के पीछे नदी में प्रिंसिपल डूब रहा था!
सुरेश ने देखा और जोर जोर से चिल्लाते हुये भागा! . . .
कल छुट्टी है! कल छुट्टी है!

———

टीचर: बच्चो, ऐसा वाक्य बनाओ जिस में उर्दू, हिंदी, पंजाबी और इंग्लिश का प्रयोग हुआ हो!
छोटू: मैडम, इश्क दी गली विच नो एंट्री

WhatsApp Message – Safal Jeewan ka Raj

एक बेटे ने पिता से पूछा – पापा ये ‘सफल जीवन’ क्या होता है ?

पिता, बेटे को पतंग उड़ाने ले गए।
बेटा पिता को ध्यान से पतंग उड़ाते देख रहा था…

थोड़ी देर बाद बेटा बोला,
पापा.. ये धागे की वजह से पतंग और ऊपर नहीं जा पा रही है, क्या हम इसे तोड़ दें !!
ये और ऊपर चली जाएगी…

पिता ने धागा तोड़ दिया ..

पतंग थोड़ा सा और ऊपर गई और उसके बाद लहरा कर नीचे आइ और दूर अनजान जगह पर जा कर गिर गई…

तब पिता ने बेटे को जीवन का दर्शन समझाया .,,,,

बेटा..
‘जिंदगी में हम जिस ऊंचाई पर हैं..
हमें अक्सर लगता की कुछ चीजें, जिनसे हम बंधे हैं वे हमें और ऊपर जाने से रोक रही हैं

जैसे :
घर,
परिवार,
अनुशासन,
माता-पिता आदि
और हम उनसे आजाद होना चाहते हैं…
वास्तव में यही वो धागे होते हैं जो हमें उस ऊंचाई पर बना के रखते हैं..
इन धागों के बिना हम एक बार तो ऊपर जायेंगे
परन्तु
बाद में हमारा वो ही हश्र होगा जो
बिन धागे की पतंग का हुआ…’

“अतः जीवन में यदि तुम ऊंचाइयों पर बने रहना चाहते हो तो, कभी भी इन धागों से रिश्ता मत तोड़ना..”
” धागे और पतंग जैसे जुड़ाव के सफल संतुलन से मिली हुई ऊंचाई को ही ‘सफल जीवन’ कहते हैं “.

Hafta Nikal – funny whatsapp admin joke

गुंडा – चल “हफ्ता” निकाल

एडमिन -“कैलेंडर फाड़ते हुए”
ले भाई
पूरा “महीना” ही रख ले

हमारे एडमिन साहब की तो
बात ही कुछ और है !!!