Rajasthani School Joke

स्कूल का निरीक्षण चल रहा था।

निरीक्षक लड़कों से- ‘सावधान’।

कोई हिला तक नहीं।

निरीक्षक- ‘विश्राम’।

सब वैसे ही खड़े रहे।

निरीक्षक-(हेड मास्टर से)
क्या है ये.. इनको इतना भी नहीं आता।

हेडमास्टर- ऐसा नहीं है सर, मैं करवाता हूँ।

हेड मास्टर- ‘सूधा ……सट्ट ।
सब सावधान हो गए।

हेड मास्टर : ‘ढिलो …..धस्स ।
सब विश्राम हो गए।

हेड मास्टर( निरीक्षक से) –
यो राजस्थान छ भाया। तोहार दिल्ली नाही।

निरीक्षक बेहोश। 😀

Latest Rajashtani Pati Patni Joke

*पत्नी बोली* ….
ओ जी थे हर बात मं म्हारा पीहर वाला न बीच मं क्यूँ ल्याओ हो।

जो केवणो है म्हन सीधो- सीधो के दिया करो

*पति बोल्यो* :
देख बावळी, अगर आपणो मोबाइल खराब हु ज्याव तो आपां मोबाइल न थोड़ी बोलां ,

गाल्यां तो कंपनी वाला न ही काढस्यां नी

गेल सफी कठई की………

Patni Ka Upwaas – Joke in Maalwi

मालवा की औरत का व्रत

पति- कईआज रोटी नी बनानी कई?
पत्नी- आज म्हारो उपास हे नी ..

पति-कई खायो?? की भुकीज हे.. कई खाई लेती?

पत्नी-, आसोज, जरासो.. खायो..
4-5 केला
2अनार
3-4 सेवफल
आलु पपड़ी
साबुदाणा की खिचड़ी
सिंगोड़ा को परसाद
सुबह ऐक गिलास दुध
दो कप चाय ☕☕ पी ली थी
ने अबे मोसंबी को रस पी री
आज ऊपास हे नी, और कई तो खाई नी सका नी।
पति- थोड़ी रबड़ी न पपीता खाई लेती ।

पत्नी- ई सब राते खाऊगा नी ..

पति- तु भोत मुश्किल ऊपास करे ।
कोई का बाप सी भी नी रेवाय.. अतरो भूखो
देखजे कई कमजेरी नी आईजाय..

पत्नी- नई जी कमजोरी नीआवेगा।
आज तो सुबह बदाम काजु खाई लिया था..

पति- फिर बी ध्यान राखजे..

Marwadi ki Akhiri Khwahish – Joke in Hindi

मारवाडी को फांसी की सजा सुनाई गयी ..

जज ने पूछा- कोई आखिरी ख्वाहिश?

मारवाडी – म्हारी जगह थे लटक जाओ!! 😀

Rajasthani Maths Teacher ki Ganit mein Kavita

एक बार एक गणित के अध्यापक से उसकी पत्नी ने गणित मे प्यार के दो शब्द कहने को कहा,
पति ने पूरी कविता लिख दी..

म्हारी गुणनखण्ड सी नार, कालजो मत बाल
थन समझाऊँ बार हजार, कालजो मत बाल

1. दशमलव सी आँख्या थारी, न्यून कोण सा कान,
त्रिभुज जेडो नाक, नाक री नथनी ने त्रिज्या जाण,
कालजो मत बाल

2. वक्र रेखा सी पलका थारी, सरल भिन्न सा दाँत,
समषट्भुज सा मुंडा पे, थारे मांख्या की बारात,
कालजो मत बाल

3.रेखाखण्ड सरीखी टांगा थारी, बेलन जेडा हाथ,
मंझला कोष्ठक सा होंठा पर टप-टप पड रही लार,
कालजो मत बाल

4.आयत जेडी पूरी काया थारी, जाणे ना हानि लाभ,
तू ल.स.प., मू म.स.प., चुप कर घन घनाभ,
कालजो मत बाल

5.थारा म्हारा गुणा स्युं. यो फुटया म्हारा भाग |
आरोही -अवरोही हो गयो, मुंडे आ गिया झाग ।
कालजो मत बाल

म्हारी गुणनखण्ड सी नार कालजो मत बाल
थन समझाऊँ बार हजार कालजो मत बाल!! 😀