For latest updates Like FB page:

Hey Maa – WhatsApp Message

दुःख थे पर्वत, राई “माँ”, हारी नहीं लड़ाई “माँ”।
इस दुनियां में सब मैले हैं, किस दुनियां से आई “माँ”।
दुनिया के सब रिश्ते ठंडे, गरमागर्म रजाई “माँ” ।
जब भी कोई रिश्ता उधड़े, करती है तुरपाई “माँ” ।
बाबू जी तनख़ा लाये बस, लेकिन बरक़त लाई “माँ”।
बाबूजी थे सख्त मगर, माखन और मलाई “माँ”।
बाबूजी के पाँव दबा कर, सब तीरथ हो आई “माँ”।
नाम सभी हैं गुड़ से मीठे, मां जी, मैया, माई, “माँ” ।
सभी साड़ियाँ छीज गई थीं, मगर नहीं कह पाई “माँ” ।
घर में चूल्हे मत बाँटो रे, देती रही दुहाई “माँ”।
बाबूजी बीमार पड़े जब, साथ-साथ मुरझाई “माँ” ।
रोती है लेकिन छुप-छुप कर, बड़े सब्र की जाई “माँ”।
लड़ते-लड़ते, सहते-सहते, रह गई एक तिहाई “माँ” ।
बेटी रहे ससुराल में खुश, सब ज़ेवर दे आई “माँ”।
“माँ” से घर, घर लगता है, घर में घुली, समाई “माँ” ।
बेटे की कुर्सी है ऊँची, पर उसकी ऊँचाई “माँ” ।
दर्द बड़ा हो या छोटा हो, याद हमेशा आई “माँ”।
घर के शगुन सभी “माँ” से, है घर की शहनाई “माँ”।
सभी पराये हो जाते हैं, होती नहीं पराई “माँ”!!

Emotional WhatsApp Message – Maa

यदि आपको गर्दन नीची कर खाने को कहा जाय और हर रोज अलग-अलग महिलाऐ बिना बोले आपको खाना परोसे..

अब आपको ये पता लगाना हे कि
आपकी माताजी ने किस दिन खाना परोसा तो आपके पास पहचानने का क्या आधार होगा ..?

Ans-
मैं हर एक से हर दिन आधी रोटी मांगूगा,
जिस दिन आधी रोटी मांगने पर भी पूरी रोटी थाली में आ जाए तो समझ लूंगा आज मां ने ही परोसा है..।”

Happy New Year 2017 WhatsApp Messages – Hindi Shayari

इससे पहले की इस साल का अस्त हो, और कैलेंडर नष्ट हो;
आप ख़ुशी में मस्त हो, मोबाईल का नेटवर्क व्यस्त हो;
दुआ है कि नया साल आपके लिये ज़बरदस्त हो।

अगर पप्पू पास हो सकता है;
मुन्नी बदनाम हो सकती है;
शीला जवान हो सकती है;
7 खून माफ़ हो सकते हैं;
आनार कली डिस्को जा सकती है;
तो फिर मैं कुछ दिन पहले मुबारकबाद नहीं दे सकता क्या?

दुआओं की सौगात लिए;
दिल की गहराइयों से;
चाँद की रौशनी से;
फूलों के काग़ज़ पर;
आपके लिए सिर्फ तीन लफ्ज़;

शेर कभी छुपकर शिकार नहीं करते,
बुज़दिल कभी खुलकर वार नहीं करते,
और हम वो है जो “हैप्पी न्यू इयर” के लिए,
जनवरी का इंतज़ार नहीं करते.!

लमहा-लमहा वक़्त गुजर जाएगा,
एक दिन बाद नया साल आएगा,
आज ही आपको ‘हैप्पी न्यू इयर’ की विश कर दू,
वरना बाज़ी कोई और मार जायेगा,
हैप्पी न्यू इयर 2017

हैप्पी न्यू इयर 2017,
क्योंकि कविराज कबीर जी ने कहा है,
कल करे सो आज कर, आज करे सो अब,
नेटवर्क बिझी हो जायेगा तो विश करेगा कब?

ज़रा सा मुस्कुरा देना, न्यू ईयर से पहले,
हर एक ग़म को भुला देना, न्यू ईयर से पहले,
ना सोचो के किस किस ने दिल दुखाया,
सब को माफ़ कर देना, न्यू ईयर से पहले..

“हैप्पी नई ईयर इन एडवांस.!”

Hansne ki Wajah – WhatsApp Message

चलो हंसने की कोई, हम वजह ढूंढते हैं,
जिधर न हो कोई ग़म, वो जगह ढूंढते हैं !
बहुत उड़ लिए ऊंचे आसमानों में यारो,
चलो जमीं पे ही कहीं, हम सतह ढूंढते हैं !
छूटा संग कितनों का ज़िंदगी की जंग में,
चलो उनके दिलों की, हम गिरह ढूंढते हैं !
बहुत वक़्त गुज़रा भटकते हुए अंधेरों में,
चलो अँधेरी रात की, हम सुबह ढूंढते हैं !!!

Narendra Modi aur Bhagwan Satyanarayan Ki Katha – WhatsApp Message

भगवान सत्यनारायण की कथा में एक प्रसंग आता है :

वेश बदलकर भगवान् , वैश्य से पूछते हैं कि तुम्हारी नौका में क्या है ?
वैश्य जवाब देता है कि मेरी नौका में तो सिर्फ “फूल, पत्ती और कपड़े हैं”.
वैश्य का जबाब सुनकर भगवान कहते हैं, “तथास्तु”.
और नौका में रखा सारा धन फूल पत्तों में बदल जाता है.

ऐसे ही तीन माह पहले प्रधानमंत्री ने भी लोगों पूछा था तुम्हारी तिजोरी में क्या छूपा हुआ है ? अगर ब्लैक मनी हो तो 30 सितम्बर तक घोषित कर दो और टैक्स चुका दो.
लेकिन लोग बोले, “नहीं नहीं, हमारी तिजोरी में तो सिर्फ ही ‘कागज ही कागज़’ है”
प्रधानमंत्री मोदी बोले, “तथास्तु” और तिजोरी का कालाधन कागज के टुकड़ों में बदल गया.

बोलो श्री सत्यनारायण भगवान् की जय !