School ke bachcho ki pareshani

कल जो मैंने एक बच्चे से पूछा:
पढ़ाई कैसी चल रही है?

उसका जवाब आया
अंकल,

समंदर जितना सिलेबस है;
नदी जितना पढ़ पाते हैं;
बाल्टी जितना याद होता है;
गिलास भर लिख पाते हैं;
चुल्लू भर नंबर आते हैं;
उसी में डूब कर मर जाते हैं।

3 thoughts on “School ke bachcho ki pareshani”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *